January 27, 2023
Bhaukal Bhaiya
भोजपुरिया रंग

भोजपुरी के बिना अधूरा है हिंदी का सम्मान

प्रत्येक स्वतंत्र देश के लिए स्वयं की एक भाषा होती है, जो उस देश का मान-सम्मान और गौरव होती है। भाषा और संस्कृति ही उस देश की असली पहचान होती है। भाषा ही एक ऐसा जरिया है जिसकी मदद से हम अपने विचारों का आदान-प्रदान कर सकते हैं। विश्व में कई सारी भाषाएँ बोली जाती है जिसमें हिंदी भाषा का विशेष महत्व है। यह भाषा भारत में सबसे अधिक बोली जाती है और विश्व में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषाओं में दूसरा स्थान है। हिंदी सिर्फ एक भाषा का काम ही नहीं करती है, यह देश की संस्कृती, वेशभूषा, रहन सहन, पहचान आदि भी है। यह सभी लोगों को एक दूसरे को आपस में जोड़े रखने का काम भी करती है। हिंदी एक ऐसी भाषा है जिसकी मदद से हर भारतीय आसानी से आपस में समझ सकते हैं। हिंदी सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में बोली जाने वाली भाषा है। इसका अध्ययन विदेशों में भी होता है और विश्व के कोने-कोने से लोग भारत सिर्फ हिंदी सिखने के लिए आते है। ऐसा माना जाता है कि देवभाषा संस्कृत का सरलतम रूप हिंदी भाषा ही है। हिंदी भाषा में संस्कृत के काफ़ी शब्दों का समावेश देखने को मिलता है। भाषा समाज-द्वारा अर्जित सम्पत्ति भी है और धरोहर भी। भाषा वह साधन है, जिसके द्वारा मनुष्य बोलकर, सुनकर, लिखकर व पढ़कर अपने मन के भावों या विचारों का आदान-प्रदान करता है। दूसरे शब्दों में- जिसके द्वारा हम अपने भावों को लिखित अथवा कथित रूप से दूसरों को समझा सके और दूसरों के भावो को समझ सके उसे भाषा कहते है। सरल शब्दों में- सामान्यतः भाषा मनुष्य की सार्थक व्यक्त वाणी को कहते है।

पहले के समय में पूरे भारत का उतर भारत का पूरा भाग हिंदी भाषा का माना जाता था जिसमें मुख्य बिहार, उतरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि है। यहां पर अधिक जनसंख्या होने से हिंदी भाषा पूरे भारत में फैलती गई और धीरे-धीरे हिंदी भाषा पूरे भारत में लोकप्रिय होती गई। आज के समय में हिंदी भाषा वैश्विक स्तर पर अपनी पहचान बना रही है। इसकी हर जगह पर सराहना हो रही है। आज के समय में हिंदी मुख्य रूप से भारत के सभी राज्यों में बोली जाती है इन राज्यों में मुख्य रूप से बिहार, उतरप्रदेश, मध्यप्रदेश, उतराखंड राजस्थान आदि आते है। राहुल सांकृत्यायन ने भी कहा है कि इस विशाल प्रदेश के हर भाग में शिक्षित-अशिक्षित, नागरिक और ग्रामीण सभी हिंदी को समझते हैं। लेकिन भोजपुरी के बिना अधूरा है हिंदी का सम्मान है

भोजपुरी और हिंदी भाषा भारत के अलावा नेपाल, दक्षिण अफ्रीका, मॉरीशस, अमेरिका, यमन, युगांडा, जर्मनी, न्यूजीलैंड, सिंगापुर आदि में भी बोलने वालों की संख्या लाखों में है। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया, यूके, कनाडा और यूएई में भी हिंदी बोलने वाले और द्विभाषी या त्रिभाषी बोलने वालों की संख्या भी बहुत है।

खबरें और भी हैं…

Related posts

बाराबंकी में केडी सिंह बाबू स्टेडियम में हुआ मैच: आरकेबी क्रिकेट क्लब और अरमान क्रिकेट क्लब के बीच हुआ मैच

Admin

जातिगत टिप्पणी और मारपीट से नाराज होकर की थी हत्या: वाराणसी में दूधिया की हत्या के आरोप में 4 आरोपी गिरफ्तार; 3 आरोपियों की पुलिस को तलाश

Admin

मऊ में दो सहायक अध्यापकों को किया गया बर्खास्त: 15 वर्षों में लिए गए वेतन की होगी वसूली, फर्जी डिग्री के सहारे कर रहे थे नौकरी

Admin

एक्सप्रेस में चलती कार देखते ही देखते जल गई, VIDEO: कार में धुआं निकलने के बाद लगी आग, 3 लोगों ने कूदकर बचाई जान; दिल्ली से ग्रेटर नोएडा शॉपिंग करने गए थे

Admin

चंदौली में संचारी रोग नियंत्रण को लेकर अफसरों से चर्चा: 15 से 30 अप्रैल के बीच चलेगा दस्तक अभियान, बच्चों को साफ-सफाई के लिए किया जाए प्रेरित

Admin

महोबा में हिन्दू संगठन ने किया विरोध प्रदर्शन: पुलिस ने हिंदू वेषभूषा देख रेलवेकर्मी की कर दी थी पिटाई, अब तक नहीं हुई आरोपियों पर कार्रवाई

Admin

Leave a Comment

Trulli